ख़ुमार बाराबंकवी शायरी – न हारा है इश्क़ न

न हारा है इश्क़, न दुनिया थकी है
दिया जल रहा है, हवा चल रही है – ख़ुमार बाराबंकवी