ख़ुमार बाराबंकवी शायरी – वो हमें जिस कदर आज़माते

वो हमें जिस कदर आज़माते रहे
अपनी ही मुश्किलों को बढ़ाते रहे – ख़ुमार बाराबंकवी