मीर तक़ी मीर शायरी – कोई तुम सा भी काश

कोई तुम सा भी काश तुम को मिले
मुद्दआ हम को इंतिक़ाम से है – मीर तक़ी मीर