मीर तक़ी मीर शायरी – खिलना कम कम कली ने

खिलना कम कम कली ने सीखा है
उस की आँखों की नीम-ख़्वाबी से! – मीर तक़ी मीर