मीर तक़ी मीर शायरी – जिस को तुम आसमान कहते

जिस को तुम आसमान कहते हो
सो दिलों का ग़ुबार है अपना – मीर तक़ी मीर