मीर तक़ी मीर शायरी – दिल की वीरानी का क्या

दिल की वीरानी का क्या मज़कूर है
ये नगर सौ मर्तबा लूटा गया – मीर तक़ी मीर