मीर तक़ी मीर शायरी – बेवफ़ाई पे तेरी जी है

बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा
क़हर होता जो बा-वफ़ा होता! – मीर तक़ी मीर