मीर तक़ी मीर शायरी – मेरे रोने की हक़ीक़त जिस

मेरे रोने की हक़ीक़त जिस में थी
एक मुद्दत तक वो काग़ज़ नम रहा – मीर तक़ी मीर