मीर तक़ी मीर शायरी – रोते फिरते हैं सारी सारी

रोते फिरते हैं सारी सारी रात
अब यही रोज़गार है अपना – मीर तक़ी मीर