मीर तक़ी मीर शायरी – हम ने अपनी सी की

हम ने अपनी सी की बहुत लेकिन
मरज़-ए-इश्क़ का इलाज नहीं – मीर तक़ी मीर