मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – दम लिया था न क़यामत

दम लिया था न क़यामत ने हनूज़
फिर तिरा वक़्त-ए-सफ़र याद आया – मिर्ज़ा ग़ालिब