मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – मेरी क़िस्मत में ग़म गर

मेरी क़िस्मत में ग़म गर इतना था
दिल भी या-रब कई दिए होते – मिर्ज़ा ग़ालिब