मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – है कुछ ऐसी ही बात

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ
वर्ना क्या बात कर नहीं आती – मिर्ज़ा ग़ालिब