नक़्श लायलपुरी शायरी – अपना दामन देख कर घबरा

अपना दामन देख कर घबरा गए।।
ख़ून के छींटे कहाँ तक आ गए।। – नक़्श लायलपुरी