नक़्श लायलपुरी शायरी – किसी हमदम का सरे शाम

किसी हमदम का सरे शाम ख़याल आ जाना।।
नींद जलती हुई आँखों की उड़ा देता है।। – नक़्श लायलपुरी