नक़्श लायलपुरी शायरी – तुम्हारे करम से है यह

तुम्हारे करम से है यह ज़िंदगी।।
मैं बुझ जाऊँगा तुम हवा तो करो।। – नक़्श लायलपुरी