नक़्श लायलपुरी शायरी – मेरे दामन को बुसअत दी

मेरे दामन को बुसअत दी है तूने दश्तो-दरिया की।।
मैं ख़ुश हूँ देने वाले, तू मुझे कतरा के राई दे।। – नक़्श लायलपुरी