क़ाबिल अजमेरी शायरी – चाहा भी अगर हम ने

चाहा भी अगर हम ने तेरी बज्म से उठना
महसूस हुआ पाँव में जंजीर पड़ी है – क़ाबिल अजमेरी