क़ाबिल अजमेरी शायरी – तुम न मानो मगर हक़ीक़त

तुम न मानो मगर हक़ीक़त है
इश्क़ इंसान की ज़रूरत है – क़ाबिल अजमेरी