क़ाबिल अजमेरी शायरी – वक़्त करता है परवरिश बरसों

वक़्त करता है परवरिश बरसों
हादसा ऐक दम नहीं होता – क़ाबिल अजमेरी