क़ाबिल अजमेरी शायरी – हम बदलते हैं रूख हवाओं

हम बदलते हैं रूख हवाओं का,
आए दुनिया, हमारे साथ चले•• – क़ाबिल अजमेरी